Editorial -sachi shiksha hindi

…जी आउंदे उपकार करने -सम्पादकीय

सच्चे गुरु, संत, पीर-फकीर जीवों के भले के लिए सृष्टि पर अवतरित होते हैं। मालिक स्वरूप संतों का जीवों के प्रति उपकार ला-ब्यान है। मालिक स्वरूप संत स्वयं जन्म-मरण से रहित, अजर व अमर हस्तियां होते हैं और जो भी उनसे जुड़ता है, जो भी शरण में आता है, अपनी रहमत से उसे भी जन्म-मरण से रहित कर हमेशा के लिए अजर व अमर कर देते हैं। सच्चे रूहानी परोपकारी संतों का जीवन-भर एकमात्र उद्देश्य जीव-सृष्टि के नमित सृष्टि भलाई का ही रहता है।

ऐसे परम स्नेही महान परोपकारी संतों का सृष्टि के हर जीव-प्राणी को इंतजार रहता है। ऐसे शुभ अवसर, नए साल और पावन एमएसजी अवतार माह जनवरी के शुभ अवसर पर जीवों की खुशी का लिख-बोलकर वर्णन नहीं हो सकता। उनकी खुशी व चावों का कोई पारावार नहीं रहता।

SKI_8826मालिक स्वरूप पूजनीय परमपिता शाह सतनाम सिंह जी महाराज ने अपनी अपार रहमत से ऐसे लाखों घर-परिवारों को आबाद किया, जो अपनी बुरी आदतों, नशों व बुराइयों के कारण समाज से बिलकुल टूट चुके थे, बिखर चुके थे। ऐसी कोई बुराई नहीं जो उनमें नहीं थी। घर में उनके चूल्हे भी नहीं तपते थे, लेकिन सच्चे दयालु दाता रहबर पूजनीय परमपिता जी ने उन पर अपनी ऐसी रहमत की कि आप जी के रूहानी सत्संग के प्रभावशाली वचनों द्वारा वे अपनी सब बुराइयां त्यागकर आप जी की शरण में आ गए और आज आप जी की ही कृपा से उन परिवारों में रंग-भाग लगे हैं।

आप जी के अपार रहमो-करम के द्वारा आज वो सेवा-सुमिरन और अच्छाई के मार्ग पर चलते हुए अपने जीवन को सुखमय बनाए हुए हैं। आप जी ने ऐसे दो-चार सौ नहीं, लाखों लोगों को अपना अपार रहमो-करम देकर देवताओं से भी ऊंचा दर्जा उन्हें प्रदान किया है। सच्चे मुर्शिद-ए-कामिल पूजनीय परमपिता शाह सतनाम जी महाराज के प्रति समस्त सृष्टि व सृष्टि का प्रत्येक जीव-प्राणी इस पावन आगमन पर नमन करते हैं, कोटि-कोटि धन्यवाद करते हैं। पूजनीय परमपिता जी ने जीवों के उद्धार के लिए इस कलियुग में अवतार धारण किया।

नव वर्ष के शुभ आगमन की खुशी तो है ही और साध-संगत के लिए यह पावन जनवरी माह हर साल दोगुनी खुशियां लेकर आता है। सच्चे दाता रहबर पूजनीय परमपिता शाह सतनाम सिंह जी महाराज इस पावन माह में सृष्टि-उद्धार के लिए पावन अवतार धारण कर धरत पर आए। इससे बड़ी खुशी साध-संगत के लिए कोई और हो नहीं सकती। साध-संगत अपने मुर्शिद-ए-कामिल का शुभ आगमन दिवस 25 जनवरी को बहुत बड़े पर्व एमएसजी अवतार दिवस भण्डारे के रूप में बहुत ही हर्षोल्लास व चावों से मनाती है।

पूजनीय परमपिता शाह सतनाम सिंह जी महाराज गांव श्री जलालआणा साहिब तहसील डबवाली, जिला सरसा के रहने वाले थे। आप जी ने पूजनीय पिता जैलदार सरदार वरियाम सिंह जी के घर पूजनीय माता आसकौर जी की पवित्र कोख से 25 जनवरी 1919 को जगत-उद्धार के लिए अवतार धारण किया। पूजनीय परमपिता जी ने अपने अपार रहमो-करम से जीवों पर अनगिनत उपकार किए हैं। आप जी के परोपकार अवर्णनीय हैं, जो लिखने-बताने से बाहर हैं। आज मौजूदा गुरु पूज्य हजूर पिता संत डॉ. गुरमीत राम रहीम सिंह जी इन्सां की पावन प्रेरणाओं से देश-विदेश यानि पूरे विश्व में करोड़ों (साढे छ: करोड़ से भी ज्यादा) साध-संगत आप जी की रहमतों को प्रत्यक्ष रूप में पा रही है।

‘जी आउंदे उपकार करने,
कलियुगी जीवां दा उद्धार करने।
संत आउंदे, जी आउंदे उपकार करने।।’

पावन एमएसजी अवतार दिवस 25 जनवरी की सभी साध-संगत को ढेरों हार्दिक बधाइयां जी।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here
Captcha verification failed!
CAPTCHA user score failed. Please contact us!