Uttarakhand -sachi shiksha hindi

सर्दियों का स्वागत करता उत्तराखंड

सर्दी के मौसम में आमतौर पर लोग जबदरस्त ठंड से बचने के उपाय करते रहते हैं लेकिन इस के उलट इस मौसम का मजा भी उठाया जा सकता है। हमारे देश में ऐसे कई इलाके हैं जहां सर्दियों में सैलानी बर्फ का मजा उठाने के लिए जाना पसंद करते हैं। बर्फ का मजा उठाने के लिए पहला नाम जो हमारे जेहन में आता है

वह जम्मू-कश्मीर का है। इसके अलावा हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और सुदूर उत्तर-पूर्व का तवांग भी सर्दियों में बर्फ का मजा लेने का अच्छा ठिकाना है। बर्फ में मौज-मस्ती का मजा ही अलग है। इससे ऊर्जा भी भरपूर मिलती है और रिश्तों में गर्माहट भी आती है।

नैनीताल:-

यहां बर्फ के साथ खेलने के लिए पर्यटकों की पसंदीदा जगह तो ऐतिहासिक माल रोड ही है, पर यदि माल रोड में पड़ी बर्फ पर्यटकों को कम लगे तो वे नैनीताल शहर के ऊपर स्नो व्यू, टिफिन टॉप से लेकर किलवरी मार्ग पर दूर हिमालय दर्शन तक जा सकते हैं। हिमालय दर्शन से हिमालय की चोटियों का विहंगम दृश्य दिखता है।

मसूरी:-

राजधानी देहरादून के पास मसूरी में भी साल में 3-4 बार बर्फबारी हो जाती है। बर्फबारी के होते ही पर्यटकों का हुजूम मसूरी आ जाता है। इस भीड़ से मसूरी के नीचे किंगररेग तक के रास्ते जाम हो जाते हैं। मसूरी तथा नैनीताल और उसके आस-पास सभी बजट श्रेणी में पर्याप्त होटल उपलब्ध हैं। बर्फबारी का मजा लेने के लिए पर्यटक मसूरी के लाल टिब्बा, किनोग हिल, जॉर्ज एवरेस्ट, गन हिल तथा क्लाउड ऐंड स्थानों पर जाते हैं।

धनौल्टी:-

मसूरी से 32 किमी दूर स्थित नव पर्यटक स्थल धनौल्टी तक बर्फबारी के बीच सड़क के दोनों ओर बर्फ जम जाती है। इस मार्ग पर तब गाड़ी चलाने का आनंद दोगुना हो जाता है। चमोली जिले के जोशीमठ से 15 किमी दूर औली तो अब विश्व प्रसिद्ध स्कीइंग केंद्र तथा शीतकालीन रिजॉर्ट का रूप ले चुका है।

विद्यार्थियों के लिए तो रहने, खाने की सुविधा, उपकरणों, स्की लिफ्ट की उपलब्धता है। पर्यटकों को बेशक एक या दो दिन स्की करने के लिए तथा हर सुविधा के लिए अलग भुगतान करना पड़ता है। रोप-वे द्वारा औली पहुंच कर पर्यटक नई दुविधा में होता है। सामने नंदा देवी सहित कई हिमाच्छादित चोटियों का दृश्य दिखता है।

कुमाऊं:-

यहां भी नैनीताल के अलावा 8 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित मुक्तेश्वर व रामगढ़ में भी अच्छी-खासी बर्फ पड़ती है। यहां से हिमालय के सुंदर दृश्य दिखते हैं। कौसानी (6,500 फुट) से हिमालय की शृंखला विस्तार से दिखती है तो चौकड़ी से बर्फबारी के बाद त्रिशूल तथा नंदा देवी से लेकर नेपाल स्थित अपि तथा नंपा चोटियां बिल्कुल नजदीक से दिखती हैं।

रानीखेत:-

यहां पर अनुकूल मौसम में साल में एक-दो बार बर्फ पड़ जाती है। ये सभी स्थल पर्यटकों के लिए पसंदीदा हैं। उत्तराखंड में बर्फबारी का आनंद लेने के लिए सैकड़ों स्थल उपलब्ध हैं। बर्फ पड़ने के बाद वातावरण साफ हो जाता है इसलिए हिमालय के दृश्य और भी खूबसूरत हो जाते हैं पर बदलते मौसम चक्र परिवर्तन के चलते यह कहना अब मुश्किल है कि साल में बर्फ कब और कितनी बार पड़ेगी।

औली:-

यहां 1,300 मीटर लंबा स्कीइंग ट्रैक उपलब्ध है, जो अंतर्राष्टÑीय मानकों पर खरा उतरता है। पर्यटकों की सुविधा के लिए 800 मीटर लंबी चियर लिफ्ट के अलावा स्कीयरों को ऊपर पहुंचाने के लिए दो स्की लिफ्ट उपलब्ध है। कुल मिलाकर औली में कम दामों में अंतर्राष्टÑीय स्तर के स्की रिजॉर्ट का मजा लिया जा सकता है इसलिए विदेशी पर्यटक भी अपने देशों में महंगे स्की रिजॉर्टों में जाने के बजाय औली आकर स्कीइंग करके पैसा बचाते हैं।

उत्तराखंड के पर्यटन विभाग का कहना है कि शीतकालीन सैफ खेलों के आयोजन की तैयारियों के पूरा होने के साथ औली शीतकालीन खेलों के अंतर्राष्टÑीय मानचित्र पर स्थापित हो जाएगा।औली के अलावा उत्तराखंड में उत्तराकाशी जिले का दयारा बुग्याल, देहरादून में चकराता के पास मुंडाली, रूद्रप्रयाग जिले का चोफता तथा पिथौरगढ़ मुंस्यारी के पास खलिया टॉप स्कीइंग के शौकीनों के लिए पसंदीदा पर्यटन स्थल है।

लैंसडाउन:-

अंग्रेजों के समय के स्थापित पर्यटन स्थलों के अलावा उत्तराखंड में बर्फबारी का आनंद लेने के लिए अनगिनत स्थल हंै। इनमें से कई स्थल तो अभी पर्यटक मानचित्र पर आ भी नहीं पाए हैं। पौड़ी जिले का लैंसडाउन शहर दिल्ली से 8 घंटे की दूरी पर सड़क मार्ग पर स्थित है। यहां गढ़वाल राइफल का रेजीमेंटल सेंटर है तथा साल में 4-5 बार बर्फ पड़ती है। कम मानवीय हस्तक्षेप के कारण लैंसडाउन शहर में सड़कों तथा मकानों के पास बांज (ओक), बुरांस आदि प्रजातियों के पुराने पेड़ों के झुरमुट मिलते हैं जिनके बीच से बर्फबारी में गुजरने पर मजा कई गुना बढ़ जाता है।

लैंसडाउन के आगे गढ़वाल का कमिश्नरी मुख्यालय पौड़ी तथा उससे आगे खिर्सू भी साल में दो-तीन बार तो बर्फ से नहा ही जाता है। रुद्रप्रयाग जिले का चोफता (10 हजार फुट) तथा देवरिया ताल और गुप्तकाशी के पास जाखधार से लेकर त्रिजुगी नारायण तक जाड़ों में खूब बर्फबारी होती है।

ये स्थल भी सड़क मार्ग पर स्थित हैं। इनके पास कई मंदिर तथा धार्मिक स्थल हैं इसलिए इस पर्यटक सर्किट में जाकर यात्री को बर्फबारी के आनंद के साथ तीर्थाटन का लाभ भी मिलता है। बांज, बुरांस तथा थुनेर के जंगलों के बीच स्थित चोफता बुग्याल की प्राकृतिक खूबसूरती के कारण इसे उत्तराखंड का स्विट्जरलैंड भी कहते हैं।

अनुकूल मौसम होने पर यहां जाड़ों में 6 फुट तक बर्फ गिरती है इसलिए यहां के होटल जाड़ों में कम खुलते हैं। पर्यटकों को 5 किमी नीचे दुगल बिट्टा से बर्फ तथा घने जंगलों के बीच चलकर स्कीइंग तथा बर्फबारी का आनंद लेने पहुंचना पड़ता है। उत्तरकाशी जिले के हर्षिल तथा गंगोत्री की शीतकालीन पूजा स्थली मुखवा में भी जाड़ों में अच्छी-खासी बर्फ पड़ती है।

उत्तरकाशी के चौरंगी खाल तथा नचिकेता ताल में तो टिहरी के महाराजा एक सदी पहले भी स्कीइंग का आनंद लेने जाते थे। देहरादून जिले के चकराता, कनासर, कथियार, त्यूणी आदि स्थानों के साथ-साथ दून की पूरी घाटी में जबदरस्त बर्फबारी होती है। अब ये जगहें भी धीरे-धीरे पर्यटकों की पसंद में शुमार होती जा रही हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here
Captcha verification failed!
CAPTCHA user score failed. Please contact us!