टैग्स Lohri

टैग: lohri

खुशहाली का प्रतीक लोहड़ी

खुशहाली का प्रतीक लोहड़ी लोहड़ी को नए वर्ष का पहला त्यौहार कहा जा सकता है। इसे मकर संक्रांति की पूर्व संध्या पर नाच गान के...
Lohri Makar Sankranti Special -sachi shiksha hindi

पा माये लोहड़ी, तेरा पुत चढ़े घोड़ी… लोहड़ी, मकर संक्राति विशेष

पा माये लोहड़ी, तेरा पुत चढ़े घोड़ी... लोहड़ी, मकर संक्राति विशेष पा माये लोहड़ी, तेरा पुत चढेÞ घोड़ी। माये नी माये पा पाथी, तेरा पुत चढ़े...
Tell the tradition of the festival, flying kites. Lohri and Makar Sankranti

पर्व की परंपरा मनाएं, पतंग उड़ाएं | लोहड़ी व मक्कर सक्रांति

पर्व की परंपरा मनाएं, पतंग उड़ाएं लोहड़ी व मक्कर सक्रांति विशेष त्यौहार है, इसलिए इस दिन देर तक सोने का कोई औचित्य नहीं है।...
Lohri, Indian Festival - Sachi Shiksha

13 जनवरी लोहड़ी विशेष : इस्सर आ, दलीदर जा…

पंजाब में लोहड़ी का त्योहार दुल्ला भट्टी से जोड़कर मनाया जाता है। मुगल शासक अकबर के समय में दुल्ला भट्टी पंजाब में गरीबों के मददगार माने जाते थे। उस समय लड़कियों को गुलामी के लिए अमीरों को बेच दिया जाता था। कहा जाता है कि दुल्ला भट्टी ने ऐसी बहुत सी लड़कियों को मुक्त कराया और उनकी फिर शादी कराई।

नवीनतम

नोट और सिक्के भी फैलाते हैं प्रदूषण

नोट और सिक्के भी फैलाते हैं प्रदूषण पिछले कुछ समय से हर ओर प्रदूषण की चर्चा है। देखते ही देखते यह शब्द चारों ओर छा...

क्लिक करे

1,142फैंसलाइक करें
7,876फॉलोवरफॉलो करें
431फॉलोवरफॉलो करें
23फॉलोवरफॉलो करें
100,384फॉलोवरफॉलो करें
47,200सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

विशेष

पुराना

कैंसर को किया कैंसिल

0
सत्संगियों के अनुभव पूज्य हजूर पिता जी की रहमत प्रेमी विजय कुमार इन्सां (विजय बंसरी वाला) सुपुत्र प्रेमी सतपाल इन्सां मेला ग्राउंड शाह सतनाम जी...

Experiences of Satsangis प्रचण्ड आग से सुरक्षित निकाला

0
सत्संगियों के अनुभव - पूज्य परम पिता जी की रहमत प्रचण्ड आग से सुरक्षित निकाला प्रेमी दारा खान इन्सां निवासी न्यू गुरु अर्जनदेव जी कालोनी...

बेटी को हर बात समझाए मां

0
बेटी को हर बात समझाए मां :  माँ-बेटी का रिश्ता बड़ा ही प्रेम से भरपूर व विश्वासी होता है। बेटी अपने सबसे करीब मां को...

होटल ऐसे समुद्र में 20 फीट नीचे

0
अक्सर जब भी किसी लग्जरी होटल रूम की बात होती है तो कई लोग कल्पनाओं की उड़ान भरने लगते हैं। एक ऐसी ही कल्पना...

सेवा के साथ सुमिरन करो, सोने पे सुहागा

0
रूहानी सत्संग (3 जुलाई 2016)  डेरा सच्चा सौदा शाह सतनाम जी धाम, सरसा मालिक की प्यारी साध-संगत जीओ! इस कलयुग में दृढ़ यकीन, श्रद्धा-भावना अपने...